Gazzal | Sandeep Khare | Marathi Kavita

Sandeep Khare
(Born: 13 May 1973, Pune, Maharashtra)


गझल

जुबा तो डरती है कहने से
पर दिल जालीम कहता है

उसके दिल में मेरी जगह पर
और ही कोई रहता है ॥ धृ ॥

बात तो करता है वोह अब भी
बात कहाँ पर बनती है
आदत से मैं सुनती हूँ
वोह आदत से जो कहता है ॥ १ ॥

दिलमें उसके अनजाने
क्या कुछ चलता रहता है
बात बधाई की होती है
और वोह आखें भरता है ॥ २ ॥

रात को वोह छुपकेसे उठकर
छतपर तारे गिनता है
देख के मेरी इक टुटासा
सपना सोया रहता है ॥ ३ ॥

दिलका क्या है,
भर जाये या उठ जाये,
एक ही बात…
जाने या अनजाने
शिशा टूटता है तो टूटता है ॥ ४ ॥

_ संदीप खरे [by Sandeep Khare]

What do you think?

1 point
Upvote Downvote

Total votes: 1

Upvotes: 1

Upvotes percentage: 100.000000%

Downvotes: 0

Downvotes percentage: 0.000000%

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

MKS Comments

comments

Halli | Pu La Deshpande | Marathi Kavita

Labhale Amhas Bhagya Lyrics | लाभले अम्हास भाग्य बोलतो मराठी

Labhale Amhas Bhagya Lyrics | लाभले अम्हास भाग्य बोलतो मराठी